All Baatcheet in hindi Ab Jagne ki jarurat hai

दोस्तों इस ब्लॉग में हम आपसे Motivational, Technology, Gmail, Insurance, Financial, Health, Biography, Stories के बारे में बात करेंगे और इन्हें जानने की कोशिश करेंगे।

जून 30, 2020

आचार्य चाणक्य के प्रेरणादायक विचार। Inspirational Thoughts of Acharya Chanakya in Hindi

 आचार्य चाणक्य के प्रेरणादायक विचार। Inspirational Thoughts of Acharya Chanakya in Hindi 



आप सब जानते है कि आचार्य चाणक्य को भारतीय इतिहास का सबसे बुद्धिमान व्यक्ति कहा गया है। जिस व्यक्ति के पास Politics Philosophy, Astronomy Science Oceanography  अनगिनत विद्याओं का ज्ञान था। जो व्यक्ति के चेहरे को देखकर ही बता दें कि सामने वाला व्यक्ति क्या सोच रहा है जो व्यक्ति ऐसे प्लान बनाता था कि हर समय में सैकड़ों उपाय होते थे। मतलब condition चाहे जैसी भी बन जाए बचाव पक्का होता था और चाणक्य नीति इतनी जबरदस्त है कि आज भी दुनिया और भारत के नेता विदेशी संबंधों को अच्छा बनाने के लिए इसका इस्तेमाल करते हैं। हम बात कर रहे हैं आचार्य चाणक्य की जो बहुत आगे तक सोच सकते थे। तो हम शुरू करते हैं आचार्य चाणक्य के Inspirational thoughts of Acharya Chanakya in Hindi आपके जीवन में क्रांतिकारी परिवर्तन ला सकता है।

Inspirational thoughts of Acharya Chanakya in Hindi


1. श्री चाणक्य जी कहते हैं कि इंसान अपने कार्यों से महान होता है ना कि अपने जन्म से ।



2. श्री चाणक्य जी कहते हैं इन्सान परिश्रम की वह चाबी है जो अपनी किस्मत का दरवाजा खोल देती है।



3. श्री चाणक्य जी कहते हैं हर कोई व्यक्ति इस संसार में अकेले पैदा होता है और अकेले ही मर जाता है और वह अकेला ही अपने अच्छे और बुरे कर्मों का फल भुगतता है और वह अकेला ही स्वर्ग या नरक जाता है।

आचार्य चाणक्य की 7 रणनीतियां।

4. श्री चाणक्य जी कहते है भगवान मूर्तियों में नहीं बल्कि आपकी अनुभूति ही आपका ईश्वर है और आपकी आत्मा ही आपका मंदिर है।

Inspirational thoughts of Acharya Chanakya in Hindi

5. श्री चाणक्य जी कहते है कि आप लोगों को दुष्ट इंसान की मीठी बातों पर कभी भी भरोसा मत करो क्योंकि वह कभी भी अपना मूल स्वभाव  नहीं छोड़ते जिस प्रकार शेर अपनी हिंसा नहीं छोड़ सकता।



6. श्री चाणक्य जी कहते हैं अगर सांप जहरीला नहीं है तो उसे खुद को जहरीला दिखाना चाहिए।

आचार्य चाणक्य की प्रेरणादायक नीतियां।

7. श्री चाणक्य जी कहते है इन्सान की पहचान उसके गुणों से होती है  ना कि ऊंचे सिंहासन पर बैठने से ।



8. श्री चाणक्य जी कहते हैं कौवै को महल के उच्च शिखर पर बैठने के बावजूद गरुड़ कहना असंभव है।

Inspirational thoughts of Acharya Chanakya in Hindi

9. श्री चाणक्य जी कहते हैं आप अपनी इस बात को कभी भी व्यक्त मत होने दो कि आपने क्या करने के लिए सोचा है बल्कि बुद्धिमान से इसे रहस्य बने रहने दो और इस काम को करने के लिए दृढ़ रहो।



10. श्री चाणक्य जी कहते हैं कोई भी काम शुरू करने से पहले, खुद से तीन प्रश्न करने चाहिए मैं यह क्यों कर रहा हूं इसके परिणाम क्या हो सकते हैं और क्या मैं इसमें सफल हुंगा। और जब गहराई से सोचने पर इन प्रश्नों का संतोषजनक उत्तर मिल जाए तभी आगे बढ़ीए।



11. श्री चाणक्य जी कहते हैं कि हारना तब आवश्यक हो जाता है जब वह लड़ाई अपने वालों से हो और जितना तब आवश्यक हो जाता है जब वह लड़ाई अपने आप से हो।



12. श्री चाणक्य जी कहते हैं कि किसी मूर्ख व्यक्ति के लिए किताबें उतनी ही उपयोगी है जितना कि अंधे व्यक्ति के लिए आईना है।

Inspirational thoughts of Acharya Chanakya in Hindi

13. श्री चाणक्य जी कहते हैं कि जब तक आपका शरीर स्वास्थ्य और नियंत्रण में है और मृत्यु दूर है, अपनी आत्मा को बचाने की कोशिश कीजिए, और जब मृत्यु सर पर आ जाएगी तब आप क्या करेंगे।



14. श्री चाणक्य जी कहते हैं कि अपने ईमान और धर्म को बेचकर कमाया गया धन आपके किसी काम का नहीं होता इसलिए आप उसे त्याग करें और आपके लिए यही उत्तम है।



15. श्री चाणक्य जी कहते हैं कि अगर कुबेर भी अपनी आय से ज्यादा खर्च करें तो वह कंगाल हो जाता है।



16 श्री चाणक्य जी कहते हैं अगर एक बार काम शुरू कर दें तो असफलता का डर नहीं रखें और ना ही काम को छोड़ें पोर्न स्टार से काम करने वाले ही व्यक्ति सबसे ज्यादा सुखी हैं।

Inspirational thoughts of Acharya Chanakya in Hindi

17. श्री चाणक्य जी कहते हैं कि सांप,नृप, शेर डंक मारने वाले ततैया, ‌ छोटे बच्चे, दूसरों के कुत्तों और एक मूर्ख इन सातो को कभी भी नींद से नहीं उठाना चाहिए।



18. श्री चाणक्य जी कहते हैं कि ‌ संसार एक कड़वा वृक्ष है और इसमें दो फल ही अमृत जैसे मीठे होते हैं ‌ जिसमें से एक मधुर वाणी और दूसरे अच्छे सज्जनों की संगति।

आचार्य चाणक्य के जीवन के संबंधित जानकारी।

19. श्री चाणक्य जी कहते हैं कि ‌अगर जंगल में एक सूखे पेड़ को आग लगा दी जाए ‌ तो वह पूरे जंगल को जला देता है ‌ उसी प्रकार एक मूर्ख या पापी पुत्र भी पूरे परिवार को बर्बाद कर देता है।



20. श्री चाणक्य जी कहते हैं कि इंसान की सोच अच्छी होनी चाहिए क्योंकि नजर का इलाज तो संभव है पर नजरिए का नहीं।

Inspirational thoughts of Acharya Chanakya in Hindi

21. श्री चाणक्य जी कहते हैं कि‌ सबसे बड़ा गुरु मंत्र यह है कि अपने राज दूसरों को कभी ना बताएं क्योंकि अगर आप बताएंगे तो यह आपको बर्बाद कर देंगे।



22. श्री चाणक्य जी कहते हैं कि अगर आपको कामयाब होना है तो अच्छे मित्रों की दोस्ती अच्छी होती है और अगर आपको उससे भी ज्यादा कामयाब होना है ‌ तो आपको अच्छे दुश्मनों की भी आवश्यकता है।



23. श्री चाणक्य जी कहते हैं कि ‌ पहले 5 साल में अपने बच्चे को बड़े प्यार से रखिए और अगले 5 साल में उसे डांट कर रखीऐ और जब वह 16 साल का हो जाए तो उसके साथ एक मित्र जैसा व्यवहार कीजिए और आपके व्यस्क बच्चे ही आप के सबसे अच्छे मित्र है।



24. श्री चाणक्य जी कहते हैं कि जैसे एक बछड़ा हजारों गाय की झुंड में अपनी मां के पीछे चलता है ठीक उसी प्रकार आदमी के अच्छे या बुरे कर्म उसके पीछे चलते हैं।

Inspirational thoughts of Acharya Chanakya in Hindi

25. श्री चाणक्य जी कहते हैं कि जिस प्रकार फूलों की सुगंध केवल वायु दिशा में फैलती है ठीक उसी प्रकार एक अच्छे व्यक्ति की अच्छाई हर दिशा में फैलती है।



26. श्री चाणक्य जी कहते हैं कि हमें अपने पिछले कल के बारे में पछतावा नहीं करना चाहिए और ना ही भविष्य के बारे में ज्यादा सोचना चाहिए और एक बुद्धिमान व्यक्ति हमेशा वर्तमान में जीते हैं।



27. श्री चाणक्य जी कहते हैं कि हर मित्रता के पीछे कोई ना कोई स्वार्थ जरूर होता है और कोई भी मित्रता ऐसी नहीं है जिसके पीछे स्वार्थ ना हो यह एक कड़वा सच है।



28. श्री चाणक्य जी कहते हैं कि वेश्याएं गरीब लोगों के साथ नहीं रहती और ठीक इसी प्रकार नागरिक कमजोर संगठन का साथ नहीं देते।

Inspirational thoughts of Acharya Chanakya in Hindi

29. श्री चाणक्य जी कहते हैं कि सांप के फन में, बिच्छू के डंक में‌ और मक्खी के मुख्य में जहर होता है परंतु दुष्ट व्यक्ति तो इस से भरा रहता है। ‌



30. श्री चाणक्य जी कहते हैं कि वह व्यक्ति जो अपने परिवार से जुड़ा होता है उसे भय और चिंता का सामना करना पड़ता है और वह इसलिए है कि सभी दुखों की जड लगाव है इसलिए हमें लगाव को छोड़ देना चाहिए।



31. श्री चाणक्य जी कहते हैं कि ‌अपमानित होकर जीने से अच्छा है कि मर जाना चाहिए क्योंकि मृत्यु तो सिर्फ एक क्षण का दुख देती है लेकिन अपमान तो हर दिन ‌ जीवन में दुख देता है।



32. श्री चाणक्य जी कहते हैं कि आपको कभी भी ऐसे व्यक्ति से मित्रता नहीं करनी चाहिए जो आपसे ज्यादा या कम प्रतिष्ठा वाला हो ‌ और ऐसे व्यक्ति की मित्रता आपको कभी खुशी नहीं देगी।

Inspirational thoughts of Acharya Chanakya in Hindi

33. श्री चाणक्य जी कहते हैं कि ‌ सेवक को तब परखना चाहिए जब वह काम ना कर रहा हो और रिश्तेदारों को किसी कठिनाइयों में, मित्रों को संकट में ‌ और पत्नी को घोर विपत्ति आने में परखना चाहिए। ‌



34. श्री चाणक्य जी कहते हैं कि यह आठ चीज कभी किसी का दर्द नहीं समझते‌ राजा, वैश्य, यमराज, अग्नि, छोटा बच्चा, चोर, भिखारी और कर वसूली करने वाला।



35. श्री चाणक्य जी कहते हैं कि यदि किसी इंसान का स्वभाव अच्छा है तो उससे कोई और गुण की जरूरत नहीं है और अगर किसी इंसान के पास प्रसिद्धि है तो उसे और जानने की क्या जरूरत है।



36. श्री चाणक्य जी कहते हैं कि वह व्यक्ति जिसका ज्ञान केवल किताबों तक सीमित है और जिसका धन दूसरों के कब्जे में है ऐसे व्यक्ति जरूरत पड़ने पर ना तो अपने ज्ञान का प्रयोग कर सकते हैं और ना ही धन का।



37. श्री चाणक्य जी कहते हैं कि इंसान को ज्यादा सीधा साधा ही नहीं ही होना चाहिए क्योंकि सबसे पहले सीधे पेड़ को ही काटा जाता है।

दोस्तों आशा करता हूं कि आपको Inspiring thoughts of Acharya Chanakya in Hindi पढ़कर अच्छे लगे होंगे और आप भी चाणक्य के द्वारा बताएं गई इन बातों को अपने जीवन में उतारे और अपनी लाइफ को पहले से ज्यादा अच्छी बनाएं।
जून 28, 2020

आचार्य चाणक्य की 7 रणनीतियां। 7 Strategies of Aacharya Chanakya

आचार्य चाणक्य की 7 रणनीतियां। 7 Strategies of Aacharya Chanakya





दोस्तों आज हम बात करेंगे 7 Strategies of Chanakya के बारे में। इनको कौटिल्य और विष्णु गुप्त के नाम से भी जाना जाता था। इनके पिता का नाम चाणक था इसीलिए इनका नाम Chanakya पड़ा। Chanakya बुद्धि के विद्वान इनकी कूट नीतियों पर चलकर कई साम्राज्य स्थापित हुए। आज कई बड़ी ministry है हमारे देश में जैसे कि education minister, home minister, finance minister, defence minister, foreign minister। यह अकेले ऐसे व्यक्ति के जो यह सारी ministry देखने में सबसे ज्यादा सक्षम थे और जो आगे चलकर चंद्रगुप्त मौर्य के प्रधानमंत्री भी रहे। नालंदा के विश्वविद्यालय में यह खुद एक शिक्षक थे शिक्षक होने के साथ-साथ international diplomacy कैसे build up करनी है political Governence कैसे लाना है planning commission Kaise तैयार करनी है। Auditing mechanism को कैसे तैयार करना है।इन सब को तैयार करने में यह सबसे ज्यादा सक्षम थे। यह समुद्र शास्त्र में भी सक्षम थे ‌ समुद्र शास्त्र का मतलब होता है कि एक इंसान से बात करते समय उसके चेहरे को देख कर बता देंगे कि वह व्यक्ति क्या सोच रहा है। ‌
एक बार Chanakya बाहर बगीचे में खेल रहे थे तब इनके घर में एक ज्योतिषी आया। जब वह ज्योतिषी उनकी मां से मिला तब उन्होंने Chanakya की पत्री देखकर कहा कि इनके जीवन में आगे राजयोग लिखा है और यह आगे चलकर देश का बड़ा प्रधानमंत्री भी बन सकता है। फिर मा सोचने लगी कि आगे चलकर अगर प्रधानमंत्री बन गया तो यह तो मुझे भूल जाएगा। फिर Chanakya की मां ने ज्योतिषी को पूछा क्या यह बात सच है। फिर ज्योतिषी बोला अगर इसकी पुष्टि करनी है तो चाणक्य के दांत को देखना सामने वाले दांत में नागराज का चिन्ह होगा। और वह पुष्टि करने के लिए जब मां ने बुलाया तो देखा वह चिन्ह था। तो फिर रोने लगी और कहने लगी तू आगे चलकर प्रधानमंत्री बन जाएगा और मुझको भूल जाएगा। इतना सुनते ही चाणक्य ने पत्थर उठाया और अपना दांत तोड़ दिया और कहने लगा मां तेरे प्रेम के चलते मैं ऐसे हजारों राजपाट  खत्म कर दूंगा। यहीं से पता चलता था कि चाणक्य को सत्ता का लोभ नहीं था।
आगे चलकर चाणक्य तक्षशिला के प्रधानाचार्य बने उन्ही दिनों सिकंदर पूरी दुनिया को जीत कर भारत की ओर बढ़ रहा था। सोने की चिड़िया भारत को लूटने के लिए सिकंदर आक्रमण पर आक्रमण कर रहा था पोरस को हरा चुका था। और चाणक्य के मन में उन दिनों एक सपना था अखंड भारत का निर्माण किया जाए एक शक्तिशाली राजा को खड़ा किया जाए।फिर उन्होंने अलग-अलग राजाओं से मिलना शुरू किया उस समय मगध जो सबसे बड़ा राज्य था और वह मगध के राजा धनानंद के पास गये और उन्हें कहने लगे क्यों ना हम सिकंदर के खिलाफ तैयारी करें। परंतु उन दिनों धनानंद कर वसूली में busy था और वह इन कर वसूली को अपने सट्टे लॉटरी, पराई स्त्री गमन और अपने भोग विलास के ऊपर खर्च कर देता था। चाणक्य ने उन्हें समझाया कि राजा का कर्तव्य है समाज से कर ले और फिर उसको समाज सेवा में लगा दे। इस पर धनानंद को गुस्सा आया और बोला यह पंडित तुम अपनी पंडिताई करो मुझको राजपाठ मत समझाओ और कहा सिकंदर जहां तक नहीं पहुंच पाएगा फिर चाणक्य ने जब उन्हें दोबारा समझाने का प्रयत्न किया तब उन्हें धक्का मारकर गिरा दिया नीचे। और जब चाणक्य नीचे गिरे तब उनकी शीखा खुल गई। फिर उन्होंने एक दृढ़ संकल्प निश्चय किया और कहा मैं तब तक यह शीखा नहीं बांधूगा  जब तक तेरा साम्राज्य को उखाड़ ना फेंक दूं और एक अखंड भारत का राजा ना लेकर खड़ा कर दूं।
 चाणक्य को अब समझ में आ गया था कि अब मुझे ही इसके लिए कुछ करना पड़ेगा। फिर चाणक्य ने अपना जीवन चंदू नाम के लड़के के प्रति समर्पित कर दिया जिसका नाम आगे चलकर चंद्रगुप्त मौर्य पड़ा। इसको उन्होंने ट्रेनिंग दी बहुत सारे शास्त्र और शस्त्र विद्या सिखाई। चाणक्य चंद्रगुप्त मौर्य को गाइड करते चले गए और वह उनकी सारी आदेशों को मानता हुआ चला गया। चाणक्य जी कहते थे की शत्रु की दुर्बलता जानने तक उसे अपना मित्र बनाए रखो। इस पर चंद्रगुप्त हैरान हो गए वह सोचने लगे सिकंदर को अपना मित्र कैसे बनाएंगे फिर चाणक्य ने चंद्रगुप्त को समझाया कि तुम उनकी सेना में शामिल हो जाओ। किसी प्रकार से उन्होंने चंद्रगुप्त मौर्य को सिकंदर की सेना में घुसा दिया और उनका faithful सिपाही बना दिया। इससे सिकंदर के अंदर की सारी जानकारियां चाणक्य के पास आने लगी।
चाणक्य अब समझ चुका था बहुत दूर से ट्रैवल करते हुए लाखों की सेना सिकंदर की अब थक चुकी होगी और फिर बोला अब इनको मन से थका देंगे। इन्होंने अब सेना में अपफाएं फैलानी शुरू कर दी कि भारत के जो देवी देवता हैं वह तुमसे नाराज हो चुके हैं। चाणक्य जी ने अजीबोगरीब काम करवाएं कभी-कभी उनके खाने में जहर मिला देते थे दिकंटक नीतियों के साथ छोटे-छोटे अटैक करवा देते थे उनके देश के झंडे जो पहाड़ पर लगे हुए हैं उनको जला देते थे। अलग-अलग प्रकार की बिशमक अफवाह फैला देते थे लोगों के अंदर कन्फ्यूजन आपस में इनको लडवा देते थे 18 साल से 15 लोगों की मदद से उन्होंने सिकंदर की सेना को खोखला बनाना शुरू किया उनका मनोबल तोड़ना शुरू किया जिससे सिकंदर ज्यादा समय तक रुक नहीं पाया। क्या कहते हैं जो जीता वही सिकंदर। गलत जो जीता वही सिकंदर नहीं बल्कि जो जीता वह चंद्रगुप्त मौर्य।

चाणक्य के प्रेरणादायक विचार को पढ़ें।

सिकंदर भारत में कभी घुस नहीं पाया चंद्रगुप्त मौर्य केवल गाइडेंस लेते रहे चाणक्य से, और आचार्य पंडित की गार्डेंस ने सिकंदर की पूरी सेना को उखाड़ कर बाहर कर दिया। इससे उनमें में कॉन्फिडेंस बहुत आ गया। 5000 हाथी घोड़ों की एक सेना बना करके सोचे कि मगध की राजधानी पाटलिपुत्र पर जाकर आक्रमण कर देते हैं और धनानंद को भी उखाड़ देंगे। और ये ओवर कॉन्फिडेंस इन के लिए नुकसानदायक रहा।
चंद्रगुप्त मौर्य अपनी सेना लेकर मगध की राजधानी पाटलिपुत्र में पहुंच गए मगर आधे दिन में ही मगध की सेना ने इनको पराजित कर दिया। और किसी प्रकार चंद्रगुप्त मौर्य और चाणक्य ने भाग करके अपनी जान बचाई।
और एक झोपड़ी के पीछे जाकर छुप गए उस झोपडी अंदर मां अपने बच्चे के लिए खाना बना रही थी और बच्चा जैसे ही उसको खाने को लगा तो उसने गरम गरम खाने के बीच में हाथ डाल दिया जिससे उस बच्चे का हाथ जल गया। और तभी मां चिल्लाई अरे पागल हो गया है तू भी चाणक्य की तरह मुर्ख है गरम खिचड़ी के अंदर हाथ डालेगा तो जल ही जाएगा। परिधि से कौने कौने से खिचड़ी को खाओ ठंडा करके आराम से। कोने-कोने से खाओगे हाथ नहीं जलेगा बीच में से खाओगे तो हाथ जलेगा।
इसी प्रकार चाणक्य ने मगध में जाकर बीच से झगड़ा कर लिया उसी को बार-बार से तैयारी करनी चाहिए थी यह बात सुनते ही चाणक्य की आंखें खुल गई उनको अपनी गलती का एहसास हुआ और जाकर औरत के पैर छुऐ और कहा माई तुमने मुझको एक नई बड़ी शिक्षा दी है।
चाणक्य में सबसे अच्छी बात क्या थी कि वह कई बार तकलीफों में आए क्योंकि उनके पास कोई बड़ी resources सेना नहीं थी। धनानंद का उस समय सबसे बड़ा साम्राज्य था लेकिन इन्होंने जाकर 7 strategies of Aacharya Chanakya बनाई। वह strategies क्या थी चले इसके बारे में जानते हैं।


1. परिधि पर हमला करो 

(7 Strategies of Chanakya)

परिधि मतलव बाहर का घेरा। धनानंद के वाहरी घेरे में जिन जिन राज्य पर उसकी कमजोर पकड़ थी वहीं से इन्होंने हमले करने शुरू किए छोटे-छोटे हमले करने शुरू किए जिसके लिए दूसरी strategies तैयार की।

2. विष कन्याओं

(7 Strategies of Chanakya)

दूसरी strategies में इन्होंने विष कन्याओं की टीम तैयार की। यह विषकन्याओ कि सेना क्या होती है इसमें बड़ी सुंदर सुंदर लड़कियां होती है जिनको थोड़ी-थोड़ी मात्रा के रूप में विष दे दे कर उनको विषकन्या के रूप में तैयार कर दिया। और यह पहली बार हुआ था इससे पहले कभी नहीं हुआ। और यह विषकन्या परिधि के राजाओं को चूम कर अपने चुंबन से राजाओं को समाप्त कर देती थी।

3. जासूसों की सेना

(7 Strategies of Chanakya)

चाणक्य ने जासूसों को training दी कि कैसे बढ़िया जासूसी कर के सारी खबर अंदर की लाकर देनी है अब चाणक्य को समझ में आ गया strategically ही चलेंगे चाणक्य कहते रहे कि शत्रु के शब्दों को सुनकर कभी गुस्सा मत करो इससे आपका भेद खुल सकता है और कभी-कभी जासूसों की भी जासूसी कर देते थे।

4. Build a high performance team

(7 Strategies of Chanakya)

चौथी strategies तैयार करने के लिए इन्होंने एक मुनि रूप धारण कर लिया और यह जानते थे अगर एक बड़ी सेना बनानी है तो उनके मन बुद्धि को जीतना होगा ‌ फिर उन्होंने जगह-जगह कथा प्रवचन करके ‌ लोगों को धीरे धीरे inspire करते थे कि तुम लोग चंद्रगुप्त की सेना को join कर लो ‌ यह जानते थे की प्रेम से बात करूंगा आध्यात्मिक बात करूंगा लोग प्रभावित हो जाएंगे और मेरी story पर विश्वास करेंगे और चंद्रगुप्त मौर्य की सेना को join करते चले जाएंगे। उनकी आत्मा मन बुद्धि को जीतने के बाद अपनी वाणी की शक्ति से प्रभावित करके एक-एक करके धीरे-धीरे 8 लाख लोगों की सेना तैयार कर दी। यह अब सेना धनानंद की सेना से 4 गुणा बड़ी हो चुकी थी।

5. योग्यता के आधार पर पद 

(7 Strategies of Chanakya)

 आपने देखा होगा कि हमारे देश में अब आरक्षण का चक्कर चल रहा है और चाणक्य जी इस आरक्षण के खिलाफ थे वह कहते थे योग्य व्यक्ति को आगे बढ़ाऊंगा। और जो आदमी योग्या है उसी को आगे बढ़ाते थे। Training के दौरान चाणक्य जी कहते थे कि राजा को अपने आसपास बुद्धिमान और योग्य रखने चाहिए चापलूस लोग नहीं चाहिए जो केवल आपकी तारीफ करते रहें।

6. छापामार युद्ध

(7 Strategies of Chanakya)

 चाणक्य ने अपनी 6 strategies छापामार युद्ध अपनाई। इसमे वह परिधि में छापामार युद्ध लगातार करते रहे इससे उनका तजुर्बा बढ़ता गया उनका तजुर्बा इतना बड़ा गया कि वे अब युद्ध के लिए तैयार हो गए।

7. Build international alliances

(7 Strategies of Chanakya)

अगली strategies में international alliances को build करते गए और अपनी ताकत और सेनाओं को बड़ा करते गए कश्मीरी राजा प्रवक्ता को अपने साथ में लिया और बाहर से कई यूनानी राजाओं को साथ में लिया पोरस का भी support अपने साथ लिया और कई समुद्री लुटेरों को भी अपने साथ में लियाइ इतनीबड़ी सेना बना करके यह 7 strategies लेकर इकट्ठे चलते गए और एक एक करके धनानंद के मगध साम्राज्य को उखाड़ के खत्म कर दिया। धनानंद कभी सपने में भी ना सोच पाया वह तो केवल शराब के नशे में रहता था और कर को अपने मजे के लिए खर्च कर देता था लेकिन चाणक्य जानता था अखंड भारत का सपना मुझे ऐसे ही पूरा करना होगा।

दोस्तों यह थी वो 7 strategies of Aacharya Chanakya जो धनानंद पर जीत हासिल करने के लिए चाणक्य द्वारा अपनाई गई थी आशा करता हूं कि आपको पढ़ने में अच्छी लगी होंगे। समय देने के लिए धन्यवाद।

जून 27, 2020

Email और Gmail में क्या अंतर है। Email aur Gmail mein kya antar hai

Email और Gmail में क्या अंतर है। Email aur Gmail mein kya antar hai

Email aur Gmail mein kya antar hai

दोस्तों पिछले article में आपने Mobile पर Email ID कैसे बनाएं के बारे में सीखा था अब मैं आपको इस ब्लॉग में Email और Gmail में क्या अंतर है। Email aur Gmail mein kya antar hai के बारे में बताऊंगा बहुत से लोग email और Gmail में confuse हो जाते हैं तो मैं आज आपकी confuse दूर करने के लिए यह article लिख रहा हूं तो चलिए दोस्तों शुरू करते हैं Email aur Gmail mein kya antar hai



Email क्या होता है ?


दोस्तों email एक प्रकार से latter लिखना होता है जैसे कि पहले के समय में हम पोस्ट लिखा करते थे और वह post डाकिए को देते थे और फिर डाकिया उस post को उस address में देता था जिसके लिए हमने post लिखा था। परंतु जैसे-जैसे समय बदलता गया अब वही format digital हो गया अब हम computer, mobile से एक स्थान से दूसरे स्थान तक letter को type करके भेजते हैं तो उसको हम Email कहते हैं। electronic mail मतलब computer के द्वारा जो भी हम type करके mail भेजते हैं उसको ईमेल कहते हैं। दोस्तों ईमेल करने के लिए हमें उस व्यक्ति की ईमेल आईडी चाहिए होती है जिसको हमने ईमेल भेजना है और अपनी ईमेल आईडी होना भी जरूरी है।
दोस्तों ईमेल आईडी के ऊपर दो चीजें होती है एक होता है username और दूसरा होता है service provider का नाम। @ के बाद जो भी नाम लिखा होता है वह होता है service provider और @ से पहले जो नाम होता है वह होता है username जैसे कि पहले हम post लिखा करते थे और उसमें address लिखा करते थे ठीक वैसे ही username हमारा address होता है। जब हम post भेजते थे मान लो India Post या other private service. ठीक इसी प्रकार email ID में @ के बाद service provider का नाम होता है। दोस्तों जहां मैं आपको बता देता हूं Email भेजने के लिए आपके पास और आपके दोस्त के पास भी email ID होना जरूरी है। दोस्तों अब आप जान गए होंगे Email ID क्या होती है Email ID एक virtual ID होती है जिसमें हम mail भेज भी सकते हैं और receive भी कर सकते हैं।

Gmail Id क्या होती है ?


दोस्तों Gmail एक Google का product है एक Google की service है जिसके द्वारा आप Email भेज पाते हैं इससे पहले आपने जाना था Gmail क्या होता है अब अगर आप किसी को email भेजना है तो आपके पास Email ID होना चाहिए Google की जो service provider करती है उसको हम gmail.com कहते हैं और यह Google का ही product है दोस्तों इसमें आपको username @ और gmail.com मिलता है इससे पता चलता है कि Gmail वाले आपको service दे रहे हैं और आपका username यह है और अब आपके पास किसी के द्वारा mail आता है और उसमें लिखा होता है gmail.com तो आप समझ जाइए यह email service Google के द्वारा provide की गई है। Gmail एक service provider company है जिससे आप email भेजने की service पाते हैं।

दोस्तों अब आपका doubt clear हो गया होगा email क्या होता है और Gmail क्या होता है इसको हम अगर और आसान भाषा में समझने की कोशिश करें अगर आपको किसी से फोन पर बात करना है तो बात करने के लिए आपको calling करनी होगी दोनों के मोबाइल पर नेटवर्क होना चाहिए नेटवर्क से आप समझ सकते हैं कि email होना चाहिए अब आपने बात करना है तो कोई भी कंपनी की सिम ले सकते हैं जैसे कि Airtel, idea, Vodafone ठीक वैसा ही अगर आपको किसी को मेल भेजना है तो आप किसी भी service provider से service ले सकते हैं चाहे वह  Gmail, Yahoo हो। service लेने के बाद अब आप उसे भी call कर सकते हो जरूरी नहीं है उसके पास भी same id होनी चाहिए। कहने का मतलब है कि email भेजने के लिए आप दोनों के पास email ID होना जरूरी है चाहे service provider कोई भी हो।

आशा करता हूं कि अब आप Email aur Gmail mein kya antar hai समझ गए होंगे। दोस्तों अगर यह article आपको अच्छा लगा तो आप आ गई शेयर जरूर करें समय देने के लिए धन्यवाद।
जून 26, 2020

Top 10 Motivational Quotes in Hindi

Top 10 Motivational Quotes in Hindi


दोस्तों आज हम Top 10 Motivational quotes in Hindi के बारे में बात करते हैं जिसमें हम आपको success, life, heart touching, speech, wisdom, positive thoughts के बारे में बताएंगे। और अगर आपने इन inspirational quotes को अपने जीवन में उतारा तो आप अपनी life change कर सकते हैं।

Motivational quotes # 1


Wisdom

Top 10 Motivational Quotes in Hindi for wisdom

इतने काबिल तो जरुर बनो,
कि मजाक उड़ाने वालों की बोलती 
हमेशा के लिए बंद हो जाए ।

Motivational quotes # 2


Positive thoughts

Top 10 Motivational Quotes in Hindi for positive thoughts

जिसमें सच बोलने का साहस अधिक होता है,
सबसे अधिक नफरत का पात्र भी वही बनता है ।

motivational quotes in hindi on success

Motivational quotes # 3


About Life

Top 10 Motivational Quotes in Hindi about life

कभी भी पंछी अपने पांव के कारण जाल में फंसते है,
और मनुष्य अपनी जुबान के कारण ।

Motivational Shayari in hindi

Motivational quotes # 4


Help other person


एक दुसरे को आगे 
बढ़ने के लिए मदद करों,
गिराने के लिए नहीं ।

Best Suvichar in Hindi 2020

Motivational quotes # 5


Success person

Top 10 Motivational Quotes in Hindi success person

आगे बढ़ने वाला मनुष्य कभी 
किसीको नुकसान नहीं पहुँचाता,
लेकिन जो दूसरों को नुकसान पहुँचाता है 
वो कभी आगे नहीं बढ़ता ।

hindi shayari for love

Motivational quotes # 6


Success

Top 10 Motivational Quotes in Hindi for success life

सफल होने के लिये,
व्यव्हार में बच्चा, काम में जवान और 
अनुभव में वृद्ध होना जरुरी है ।

3 best motivational and inspirational Story in Hindi

Motivational quotes # 7


Life change

Top 10 Motivational Quotes in Hindi for hard

आपकी मुश्किलें इतनी भी गहरी नहीं,
कि आपकी मुस्कराहट इनमें खो जाए ।

प्रेरणादायक कहानियां। 2 Short Motivational Story in Hindi

Motivational quotes # 8


Heart touching

Top 10 Motivational Quotes in Hindi for heart touching

दौलत भीख मांगने पर भी मिल जाती है,
लेकिन इज्जत कमानी पड़ती है साहब ।

प्रेरणादायक चाणक्य नीति। Motivational Chanakya niti in Hindi

Motivational quotes # 9


Speech

Top 10 Motivational Quotes in Hindi on speech

गुस्से में कभी गलत मत बोलो,
मुड तो ठीक हो ही जाता है पर
बोली हुई बातें वापस नहीं आती ।

positive thoughts in hindi for life

Motivational quotes # 10


Inspirational

Top 10 Motivational Quotes in Hindi


आप अपने आपको पानी की तरह बनाओ जो अपना रास्ता खुद बनाता है,
परंतु पत्थर की तरह नहीं जो दूसरों का रास्ता भी रोक देता है ।

स्वामी विवेकानंद की सर्वश्रेष्ठ प्रेरक कहानी हिंदी में

दोस्तों आशा करता हूं कि यह टॉपिक आपको पसंद आया होगा और समय देने के लिए धन्यवाद।